emirneer

is creating Short writing and Poems.

0

patrons

$0

per month

About emirneer

जान खुद को इसकदर कि
आईना ना देखना पड़े
महफिलों का क्या हैं
वो तो रंगीन होती है
बनो ऐसा रंगरेज कि
कोइ रंग आपको बदल न सके|

Recent posts by emirneer